Trending

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है । प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स

आज की पोस्ट में हम घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट किट (Pregnancy test kit in Hindi) की मदद से घर पर ही गर्भावस्था जांच के बारे में बात करेंगे. घर में गर्भावस्था जांच करने के लिए सामान्यतः बाज़ार में आसानी से उपलब्ध प्रेग्नेंसी टेस्ट किट का उपयोग किया जाता है. बाज़ार में आज के समय गर्भावस्था जांच किट कई अलग-अलग कम्पनियों द्वारा बना कर बेचा जाता है. आज हम चर्चा करेंगे की आप घर पर ही गर्भावस्था परीक्षण करके प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स (Pregnancy test kit result in Hindi) से गर्भवती होने का पता कैसे लगा सकते हैं और प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है (pregnancy test kit use in hindi).

प्रेगनेंसी टेस्ट किट काम कैसे करता है
How work Pregnancy Test Kit in Hindi

इस किट की सहायता से गर्भावस्था जांच करने के लिए यूरिन यानी मूत्र का उपयोग किया जाता है. प्रेगनेंसी टेस्ट किट मूत्र में HCG हॉर्मोन की पहचान करता है जिसके आधार पर ही गर्भवती होने का पता लगाया जाता हैं. जैसे ही अंडे और शुक्राणु का निषेचन होता है उसके कुछ ही दिनों बाद ही HCG हॉर्मोन गर्भवती महिला के शरीर में बनने लगता है तथा यह HCG हार्मोन यूरिन यानी मूत्र में भी होता है. गर्भावस्था जांच किट इस HCG हॉर्मोन को ही पहचानने का काम करता है और इस आधार पर ही प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स प्रदान करता है. अब हम बताएंगे की प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए और दिन में किस समय करना चाहिए.
पढ़े- प्रेगनेंसी टेस्ट एट होम । प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए । pregnancy test in hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है, Pregnancy test kit use in hindi, प्रेगनेंसी टेस्ट किट काम कैसे करता है
प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए
Pregnancy test kitne din me kare in hindi

आपके मन में भी यह सवाल आया होगा कि पीरिएड मिस होने पर प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए तो एक्सपर्ट की माने तो गर्भावस्था की जांच पीरियड मिस होने के अगले दिन कर सकते है लेकिन बेहतर एक्यूरेसी और एकदम सही रिजल्ट के लिए पीरियड मिस होने के एक हफ्ते बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए क्योंकी एक हफ्ते बाद इसकी प्रमाणिकता अधिक होती है. HCG हार्मोन एक महिला के शरीर में तभी बनता है जब फर्टीलाइज़ड एग गर्भाशय में प्रत्यारोपित होता है. अंडे का प्रत्यारोपण, शुक्राणु और अंडे के निषेचन के 6 दिन बाद होता है. यही कारण है की अगर गर्भावस्था परीक्षण बहुत जल्दी कर लिया जाए तो संभव होता है की महिला के प्रेग्नेंट होने के बाद भी में भी प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन दिखता है या नेगेटिव दिखाता है.
अगर टेस्ट रिपोर्ट नेगेटीव आ जाए लेकिन आपको प्रेगनेंट होने के लक्षण (Symptoms of pregnancy in hindi) दिखाई दे तो 72 घंटे बाद दोबारा जांच करनी चाहिए ताकि गर्भावस्था की स्तिथि बेहतर ढंग से समझ सकते हैं.
प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग करने से पहले उसकी पैकिंग मे बताए गए उपयोग करने के तरीक़ों और अन्य जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़े तथा उसमे बताए अनुसार ही यूरिन को स्ट्रिप में डालना चाहिए. इसके अलावा कितने देर तक स्ट्रिप को यूरिन के संपर्क में रखना है, यह भी कम्पनी द्वारा किट के पैक पर दिए निर्देशो के अनुसार ही करें. इस तरह आप जान गए होंगे की प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए.
पढे- प्रेगनेंसी टेस्ट करने के घरेलू उपाय । नमक, साबुन, शैम्पू, चीनी, कोलगेट आदि से

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है
Pregnancy test kit use in hindi

जब आप गर्भावस्था जांच किट खरीदते हैं तो उस पैकिंग में गाइड मैनुअल होता है जिसमे लिखा होता है की प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है (Pregnancy test kit use in hindi). अगर आपको इसके बारे में पता नही है तो हम आपको बताते हैं की इसकी साधारण कार्यविधि इस प्रकार होती है.
  • सबसे पहले प्रेगनेंसी टेस्ट किट के पैकिंग को खोले तथा स्ट्रिप और ड्रॉपर को बाहर निकाल कर रखे.
  • उसके बाद किसी साफ और सीखे बर्तन या जार में यूरिन लेना है तथा ड्रॉपर की मदद से यूरिन की कुछ बूंदे स्ट्रिप में निर्देशित जगह पर डाले. सामान्यत यूरिन की तीन बूंदे डालनी होती है.
  • उसके बाद 5 मिनट तक आपको इंतजार करना है फिर आपको स्ट्रिप पर 1 लाइन या 2 लाइन दिखाई देगी.
  • प्रेगनेंसी टेस्ट में 1 लाइन का मतलब है प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स नेगेटिव है यानी आप गर्भवती नही है.
  • इसी प्रकार यदि टेस्ट में 2 लाइन आती है तो इसका मतलब है कि आप गर्भवती हैं और टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव है.
इस तरह आप जान गए होंगे की प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है (Pregnancy test kit use in hindi) तथा इसकी कार्यविधि क्या होती है.
पढ़े- बच्चा गिराने की दवा टेबलेट नेम लिस्ट प्राइस । मिफेजेस्ट किट, अनवांटेड किट हिंदी में

दिन में प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए इन हिंदी
प्रेगनेंसी टेस्ट किट से संबंधित एक और सवाल है जो मन में आता रहता हैं वो यह है की दिन में प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए तो इसका जवाब यह है की पूरे दिन में आप किसी भी समय गर्भावस्था टेस्ट कर सकते हैं लेकिन सुबह के समय ही प्रेगनेंसी टेस्ट करना अच्छा होता है तथा इस हेतु सुबह के समय दिन का पहला यूरिन यानी मूत्र ही उपयोग करना चाहिए क्योंकी सुबह सो कर उठने के बाद जब मूत्र त्याग किया जाता है, तब उस समय मूत्र में HCG हार्मोन की मात्रा ज्यादा होती है. सुबह के समय गर्भावस्था परीक्षण करने पर 99% सही रिजल्ट्स प्राप्त होने की संभावना रहती है.
पढ़े- नींबू से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करते हैं और करने का तरीका

प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन, प्रेगनेंसी टेस्ट किट पॉजिटिव फैंट लाइन
प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स
Pregnancy test kit result in Hindi

अब तक आपने गर्भावस्था परीक्षण कैसे करते हैं इस बारे में जाना है. अब हम आपको बताएंगे की प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स (Pregnancy test kit result in Hindi) कैसे देखते हैं. पोस्ट में शुरुआत में हमने आपको बताया है की प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है उसी अनुसार टेस्ट करने के बाद आपको इस तरह के रिजल्ट्स प्राप्त होगे जो इस प्रकार हैं.
प्रेगनेंसी टेस्ट में 1 लाइन
जब आपको गर्भावस्था परीक्षण के रिजल्ट में यानी प्रेगनेंसी टेस्ट में 1 लाइन दिखाई दे तो इसका मतलब होता है की टेस्ट का परिणाम नेगेटिव है और आप प्रेगनेंट नही है.
प्रेगनेंसी टेस्ट में 2 लाइन
जब आपको गर्भावस्था परीक्षण के रिजल्ट में 2 लाइन दिखे तो इसका मतलब है की आप गर्भवती हैं तथा टेस्ट का रिजल्ट पॉजिटिव है.
पढ़े- 1 से 9 महीने गर्भावस्था बच्चा लड़का लक्षण । किस महीने में लड़का होता है

प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन
कई बार जब हम गर्भ परीक्षण के लिए होम किट का उपयोग करते हैं तो परिणाम में एक या दो हल्की गहरी लाइन प्राप्त होती है, इन हल्की गहरी लाइन को ही फैंट लाइन कहा जाता है. आज हम आपको बताएंगे की प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन का मतलब क्या होता है. गर्भावस्था परीक्षण में फैंट लाइन आने के कई कारण है जिनमे पहला कारण है की प्रेगनेंसी टेस्ट किट की स्ट्रिप की संवेदनशीलता कम हो सकती है है. प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन का दूसरा कारण यह हो सकता है की आपने किट के स्ट्रिप पर ड्रॉपर से यूरिन की कम बूंदे डाली है. इसके अलावा तीसरा कारण यह है की आपने थोड़ा जल्दी यानी पीरियड मिस होने के अगले दिन ही टेस्ट कर लिया है जिसकी वजह से प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव फैंट लाइन या नेगेटिव फैंट लाइन दिखा रहा है. हालांकि प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव फैंट लाइन द्वारा जो रिजल्ट्स शो हो रहा है वो सही हो सकता है यानी आप प्रेगनेंट हो सकती है लेकिन बेहतर और सही परिणाम हेतु आपको दोबारा प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए.
पढ़े- अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण । Pregnancy symptoms after ovulation in Hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट किट की सत्यता कितनी है
Accuracy of Pregnancy Test Kit in Hindi

यह सवाल गर्भावस्था परीक्षण करने वाले के मन में जरुर आता है की जिस प्रेग्नेंसी टेस्ट किट का उपयोग किया जा रहा है क्या उसके द्वारा दिया गया रिज़ल्ट सही है या नही. इस सवाल का जवाब यह है की प्रेगनेंसी टेस्ट किट की प्रमाणिकता 99% तक है अर्थात 100 बार जांच करने पर 99 बार सही रिपोर्ट मिलती हैं. हालांकि यह आंकड़े उच्च गुणवत्ता वाले कंपनीज जैसे प्रेगा न्यूज आदि के सन्दर्भ में है. इसलिए ज़रूरी है की जब भी इन टेस्ट किट का उपयोग करें तो यह बात कन्फर्म कर लेंवे की वह किट किसी अच्छी कम्पनी का ही हो.
यह भी पढ़े-
नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करते है
शैंपू से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करें
चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करे
टूथपेस्ट कोलगेट से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करते हैं

घर पर गर्भ परीक्षण के बाद ब्लड टेस्ट
एक और सवाल उठता है की क्या प्रेगनेंसी टेस्ट किट से जांच के बाद भी ब्लड टेस्ट यानी खून जांच के माध्यम से प्रेग्नेंसी कन्फ़र्म करना ज़रुरी होता है? तो जैसा की ऊपर बताया गया है की प्रेगनेंसी टेस्ट किट का सही तरीके से और सही समय पर उपयोग किया जाए तो 100 बार जांचने पर 99 बार रिपोर्ट सही होता है. अगर इस टेस्ट रिजल्ट्स में पॉजिटिव आए तो ब्लड टेस्ट के माध्यम से HCG के स्तर की जांच ज़रुर करवानी चाहिए ताकि शरीर में HCG के सही स्तर का पता लगाया जा सके. इसके अलावा HCG के स्तर का अध्ययन कर के ही गर्भपात जैसे संभावित खतरे को भी समझा जा सकता है तथा इसकी मदद से ही एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (कोख के बाहर की प्रेग्नेंसी) को भी समझा जाता है. गर्भवती होने का पता चलने के बाद डॉक्टर से संपर्क जरूर करे, जब आप डॉक्टर से सलाह लेने जाएंगे तो वो अपने आप ही आपको ब्लड टेस्ट करवाने हेतु बता देंगे.

यह भी पढ़ें-
नॉर्मल डिलीवरी के घरेलू उपाय
तो इस तरह से आज की पोस्ट में आपने जाना की प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे यूज़ करते है (Pregnancy test kit use in hindi) तथा प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए और क्या सावधानियां बरतनी चाहिए. इसके अलावा आपने जाना की प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स (Pregnancy test kit result in Hindi) को कैसे देखते हैं तथा प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स फ़ैंट लाइन क्या होता है और प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव फैंट लाइन आने पर क्या करे. प्रेगनेंसी टेस्ट किट से संबंधित आज की पोस्ट आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं आपकी कोई सलाह या सवाल हो तो कमेंट बॉक्स या ईमेल के माध्यम से बता सकते हैं.
और नया पुराने