Trending

अशोकारिष्ट के फायदे, उपयोग । Ashokarishta ke fayde uses benefits in hindi

अशोकारिष्ट सिरप एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक दवा है जो विभिन्न स्त्री रोगों के इलाज हेतु उपयोग में लाई जाती है. यह आयुर्वेद का महिलाओं हेतु ऐसा आशीर्वाद हैं जिसने कई स्त्रियों को स्वास्थ्य सुधारने में मदद की है तथा यह एक हानिरहित दवा है. बाजार में पतंजलि, डाबर, बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप उपलब्ध है तथा अन्य कई आयुर्वेदिक कंपनिया भी यह दवा बनाती है. आज हम पीरियड में अशोकारिष्ट पीना चाहिए या नहीं तथा पतंजलि, डाबर, बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप पीने के फायदे (Ashokarishta ke fayde in hindi) के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे. इसके साथ ही वेट लॉस, गर्भपात के लिए अशोकारिष्ट के प्रयोग होने तथा प्राइस के बारे में भी जानेंगे.

Ashokarishta ke fayde in hindi, ashokarishta syrup uses in hindi, पीरियड में अशोकारिष्ट पीना चाहिए, ashokarishta syrup benefits in hindi
{tocify} $title={Table of Contents}

अशोकारिष्ट सिरप के घटक (Components of ashokarishta syrup in Hindi)

अशोकारिष्ट को मेडिकल की भाषा में विथानिया सोम्निफेरा कहा जाता है तथा यह एक आयुर्वेदिक सिरप है. अशोकारिष्ट के घटक में अशोक, विभिताकी, जीरका, मुस्ता, वासा, धाताकी आदि प्रमुख औषधीय तत्व होते हैं तथा पतंजलि, बैद्यनाथ, डाबर अशोकारिष्ट सिरप में 10% तक प्राकृतिक अल्कोहल होता हैं. इस दवा का मुख्य उपयोग कई प्रकार के स्त्री रोगों तथा मुख्यत हार्मोनल असंतुलन, पीरियड, ओवेरी, गर्भाशय संबंधी विकारों, रक्त प्रदर, श्वेत प्रदर आदि समस्याओं हेतु किया जाता है. इसके अलावा अशोकारिष्ट फॉर वेट लॉस, गर्भपात विकार हेतु भी इसका प्रयोग होता हैं.

Ashokarishta syrup uses in hindi (अशोकारिष्ट सिरप का उपयोग)

अशोकारिष्ट सिरप का मुख्य यूज गर्भाशय संबंधी विकारों का इलाज करना होता हैं. यह दवा स्त्री रोगों के निदान हेतु काफी प्रसिद्ध आयुर्वेदिक टॉनिक है तथा मेट्रोरेजिया, मेनोरेजिया, मेनोमेट्रोरेजिया, तेज पेट दर्द, ऐंठन आदि समस्याओं में उपयोग होती हैं. इस सिरप के प्रमुख उपयोग (Ashokarishta syrup uses in hindi) निम्न हैं-
  • इस दवा का अनियमित मासिक धर्म तथा भरी पीरियड्स की समस्या के निवारण हेतु उपयोग होता हैं. इसलिए कई बार इसे अशोकारिष्ट सिरप फॉर पीरियड्स की दवा कहा जाता है लेकिन यह गर्भाशय के अन्य विकारों के इलाज हेतु भी काम आती है.
  • मासिक धर्म के दौरान हेवी ब्लीडिंग (मेनोरेजिया) होने की समस्या होने पर भी अशोकारिष्ट सिरप यूज होती है.
  • बिना मासिक धर्म के ब्लीडिंग होना यानी रक्त प्रदर (मेट्रोरेजिया) की समस्या होने पर भी Ashokarishta syrup uses किया जाता हैं.
  • पीरियड में अशोकारिष्ट पीना चाहिए क्योंकि यह दवा पेट में तेज दर्द, ऐंठन, हाई ब्लीडिंग, चक्कर आना, पैरो में दर्द आदि विकारों से निजात दिलाती हैं.
  • अशोकारिष्ट के लाभ यह भी है की इसमें फाइबर की पर्याप्त मात्रा होती है जो पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करती है.
  • यह दवाई महिलाओं की इम्युनिटी पावर भी बढ़ाती है क्योंकि इसमें गैर-लाभकारी जड़ी बूटियां प्रयोग में ली जाती है.

डाबर, बैद्यनाथ, पतंजलि अशोकारिष्ट के फायदे । Patanjali Dabur Baidyanath ashokarishta ke fayde in hindi

अशोकारिष्ट सिरप अनेक स्त्री रोगों के इलाज हेतु फायदेमंद साबित होती हैं. यह सिरप मासिक धर्म संबंधी समस्याओं जैसे हाई ब्लीडिंग, पेट में तेज दर्द, ऐंठन, अनियमित मासिक धर्म चक्र, गर्भाशय की कमजोरी की वजह से बार बार गर्भपात होने आदि विकारों में उपयोगी साबित होती हैं. डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप के फायदे (Ashokarishta syrup benefits in hindi) निम्नलिखित हैं-

1- अशोकारिष्ट सिरप के मासिक धर्म की समस्या में फायदे (Periods related Ashokarishta benefits in Hindi)

पीरियड की समस्याओं में अशोकारिष्ट सिरप पीने के फायदे अनेक होते हैं. यह मुख्यत इन्ही समस्याओं के निवारण हेतु प्रयोग में ली जाती है. मासिक धर्म की निम्नलिखित समस्याओं हेतु अशोकारिष्ट सिरप का यूज़ होता है-

डिसमेनोरीया (Dysmenorrhea in hindi) के इलाज में लाभ

मासिक धर्म के दौरान तेज असहनीय दर्द होना कष्टार्तव (डिसमेनोरीया) कहलाता है. यह समस्या सामान्यत वात दोष बढ़ने की वजह से होती हैं. अशोकारिष्ट सिरप के वात संतुलन गुण के कारण इसके लगातार सेवन करने से इस समस्या से छुटकारा मिलता है जो इसका मुख्य लाभ (Ashokarishta syrup benefits in hindi) हैं.

मेनोरेजिया (Metrorrhagia in Hindi) के इलाज में फायदे

पीरियड्स के दौरान पेट में तेज दर्द तथा हैवी ब्लीडिंग होना अतिरज (मेनोरेजिया) कहलाता हैं. इससे पीड़ित महिला के मासिक धर्म के समय असामान्य रूप से अत्याधिक रक्त स्राव होता हैं तथा पेट दर्द बना रहता हैं. अशोकारिष्ट सिरप पीने के फायदे (Ashokarishta syrup benefits in hindi) में प्रमुख यह है की इसके लगातार यूज करने से अतिरज (मेनोरेजिया) की समस्या का निवारण होता हैं.

मेट्रोरेजिया (Metrorrhagia in Hindi) के इलाज में लाभ

बिना पीरियड्स के भी गर्भाशय से खून का बहना रक्त प्रदर (मेट्रोरेजिया) कहलाता हैं. इसके अंतर्गत बिना मासिक धर्म आए ही गर्भाशय से रक्त आना शुरू हो जाता हैं. यह समस्या किशोर बालिकाओं और रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) के पास आने वाली महिलाओं में ज्यादा होती हैं. अशोकारिष्ट सिरप के लगातार उपयोग से रक्त प्रदर (मेट्रोरेजिया) जैसी समस्याओं से निजात मिलती है.

मेनोमेट्रोरेजिया (Menometrorrhagia in Hindi) के इलाज में फायदे

गर्भाशय संबंधी अतिरज (मेनोरेजिया) तथा रक्त प्रदर (मेट्रोरेजिया) के मिश्रित विकार को मेनोमेट्रोरेजिया कहा जाता हैं. इसके अंतर्गत लंबे समय तक अनियमित रूप से तथा सामान्य से अधिक बार हैवी ब्लीडिंग होती हैं. इस समस्या के निराकरण हेतु भी अशोकारिष्ट का लगातार सेवन करना फायदेमंद साबित होता है.

अनियमित मासिक धर्म के इलाज में फायदेमंद

जब किसी महिला के पीरियड्स के बीच का समय अंतराल हर महीने में परिवर्तित हो जाता है तो इसे अनियमित मासिक धर्म कहा जाता है. इसके अंतर्गत कभी तो मासिक धर्म चक्र 28 दिन का हो जाता है तो कभी इसमें 35 दिन तक लग जाते हैं, इस प्रकार अनियमित मासिक धर्म चक्र के निदान हेतु अशोकारिष्ट सिरप का लगातार सेवन करना फायदेमंद (Ashokarishta ke fayde in hindi) साबित होता है यानी पीरियड में अशोकारिष्ट पीना चाहिए.

यह भी पढे-

रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) के प्रभाव के इलाज में फायदा

जब किसी महिला के औसतन 45 से 50 वर्ष की उम्र के बाद पीरियड्स आना बंद हो जाता है जिसे रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) कहते हैं. इसके कारण मेनोपॉज के बाद महिला के शरीर में काफी हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तन होते हैं जिसकी वजह से उस महिला को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इन परेशानीयों से बचने के लिए यानी मेनोपॉज का आयुर्वेदिक इलाज हेतु अशोकारिष्ट का नियमित सेवन करना चाहिए.

2- अशोकारिष्ट सिरप के शारीरिक समस्याओं में फायदे (Physical problem related ashokarishta syrup benefits in hindi)

महिलाओं के लिए मासिक धर्म की समस्याओं के अलावा अन्य शारीरिक समस्याओं में भी अशोकारिष्ट सिरप काफी फायदेमंद साबित होती है. इसके नियमित सेवन से शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ाती है जिसकी वजह से थकान, चक्कर आना, सर दर्द, बदन दर्द जैसी समस्या दूर होने लगती है. यह दवाई प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करती हैं जिससे कई तरह के जीवाणु संक्रमण (बैक्टीरियल इन्फेक्शन) से बच सकते है जो अनेक बीमारियों के संवाहक है.

3- अशोकारिष्ट सिरप पेट से संबंधित विकारों में फायदे (Pet ke rogo main Ashokarishta ke fayde in hindi)

इस दवा के सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है तथा पेट से संबंधित अन्य कई बीमारियों से निजात मिलती है. विभिन्न कारणों से पेट दर्द, पेट में ऐंठन, गैस बनना जैसी समस्याओं के निराकरण में अशोकारिष्ट सिरप काफी फायदेमंद साबित होती है. इस दवा में उपस्थित आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां फाइबर की अच्छे स्त्रोत होती हैं जो पाचन क्रिया को मजबूत करने में सहायक होती है और इसकी वजह से पेट से संबंधित कई सारी समस्याओं से निजात मिलती है.

4- मोटापे और वजन घटाने में फायदे (Benefits of Ashokarishta for weight loss in hindi)

सही पढ़ा आपने अशोकारिष्ट फॉर वेट लॉस जी हां यह दवा वजन घटाने में भी मदद करती हैं. कई शोध में यह माना गया हैं की हार्मोनल असंतुलन की वजह से वेट बढ़ता है जबकि इस दवा के रेगुलर सेवन से हार्मोनल असंतुलन को संतुलित रखने में सहायता मिलती हैं जिससे वजन भी कंट्रोल में रहता हैं. अशोकारिष्ट सिरप आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने (डिटॉक्सिफिकेशन) तथा रक्त शुद्धिकरण में सहायता करता हैं जिससे आपके शरीर का वजन संतुलित रहता हैं.

5- गर्भपात के लिए Ashokarishta (Ashokarishta for abortion in Hindi)

गर्भाशय की कमजोरी की वजह से बार बार होने वाले गर्भपात से बचने हेतु इस दवाई का रेगुलर सेवन गर्भाशय को स्वस्थ रखने में काफी फायदेमंद साबित होता हैं. इस दवाई का सेवन जहां बार बार होने वाले गर्भपात से बचाता हैं वहीं दूसरी तरफ पतंजलि, बैद्यनाथ, डाबर अशोकारिष्ट प्रेगनेंसी में नुकसानदायक भी साबित हो सकता हैं. यह दवा हार्मोन के स्तर को प्रभावित करती हैं इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान इसका सेवन नहीं करना चाहिए.

यह भी पढे-

6- अल्सर, बवासीर, पेचिस और अन्य विकारों में फायदेमंद

अशोकारिष्ट सिरप में आंतरिक सूजन और जलन विरोधी (एंटी-इंफ्लेमेटरी) गुण होते है जो अल्सर, बवासीर, पेचिस से बचाव करने में सहायता करता है तथा पेशाब से संबंधित विकारों से बचने हेतु भी प्रयोग (Ahokarishta syrup uses in hindi) होती हैं.

7- बांझपन के इलाज में लाभकारी (Benefits in infertility in Hindi)

महिला के बांझपन हेतु अवसाद, चिंता तथा अनिंद्रा की वजह से होने वाले हार्मोनल असंतुलन भी जिम्मेदार होता हैं. इस स्थिति में यह दवा गर्भाशय के दोष दूर करने तथा शरीर शोधन के द्वारा विषाक्त तत्वों को बढ़ने से रोककर बाहर निकालने में सहायक होती हैं तथा बांझपन (Infertility) के इलाज में लाभकारी सिद्ध होती हैं.

अशोकारिष्ट के नुकसान, साइड इफेक्ट्स (Ashokarishta Ke Nuksan Side effects in Hindi)

यह दवाई एक आयुर्वेदिक टॉनिक है और इसमें प्राकृतिक घटक ही प्रयोग होते हैं जिसकी वजह से इस दवा के सेवन से कोई गंभीर दुष्प्रभाव, नुकसान या साइड इफेक्ट्स नही होता है तथा ज्यादातर महिलाओं हेतु सुरक्षित होता हैं. फिर भी कुछ अनुसंधानों में कुछ हल्के दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स पाए गए हैं. कुछ प्रमुख अशोकारिष्ट के नुकसान, साइड इफेक्ट्स निम्न हैं-
  • इस सिरप के दुष्प्रभाव की वजह से पीरियड्स में देरी हो सकती हैं.
  • इसमें होने वाले प्राकृतिक अल्कोहल की वजह से सीने में जलन महसूस हो सकती हैं.
  • इस दवा के साइड इफेक्ट्स के तहत पीरियड्स के दौरान रक्त के प्रवाह की कमी हो सकती हैं.
  • अशोकारिष्ट के घटक में गुड़ भी होता हैं जो डायबिटीज के मरीज हेतु नुकसानदायक साबित हो सकता हैं.
  • कुछ मामलों में इसे हाई ब्लड प्रेशर का कारण माना गया हैं.
  • अशोकारिष्ट का गर्भवास्था में सेवन नुकसानदायक हो सकता हैं.

अशोकारिष्ट की निर्माणकर्ता कंपनियां (Patanjali, Dabur, Baidyanath Ashokarishta in Hindi)

विभिन्न आयुर्वेदिक कंपनियां इस सिरप का उत्पादन करती हैं जिनमे डाबर, बैजनाथ, पतंजलि दिव्य, साण्डू, धूतपापेश्वर, मुल्तानी, सीताराम आयुर्वेद, महर्षि आयुर्वेद, बाप्स अमृत, स्वदेशी आयुर्वेद, श्री श्री तत्व, बालजीवन अशोकारिष्ट आदि प्रमुख हैं. इनमे से कुछ ब्रांड के विस्तार से जानकारी निम्नलिखित हैं-

डाबर अशोकारिष्ट (Dabur ashokarishta in Hindi)

यह दवाई डाबर इण्डिया लिमिटेड बनाती है जो की स्वास्थ्य क्षेत्र में भारत की टॉप सबसे बड़ी कम्पनी में से एक है. डाबर कंपनी की स्थापना 1884 ई. में डा. एस के बर्मन ने की थी तथा आज डाबर इंडिया लिमिटेड 250 से अधिक उत्पादों का निर्माण करती हैं जिसमें डाबर अशोकारिष्ट (Dabur ashokarishta) भी प्रमुख हैं और अब जानते है की इस सिरप के क्या क्या फायदे हैं तो डाबर अशोकारिष्ट के फायदे (Dabur Ashokarishta benefits in hindi) और नुकसान वो ही है जो ऊपर बताए गए हैं क्योंकि यह दवा चाहे किसी आयुर्वेद कंपनी की हो, इसके घटक और बनाने का फार्मूला एक ही होता हैं तथा सभी एक तरह का ही व्यवहार करती हैं.

dabur ashokarishta benefits in hindi, डाबर अशोकारिष्ट के फायदे, डाबर अशोकारिष्ट price, डाबर अशोकारिष्ट प्रेगनेंसी

डाबर अशोकारिष्ट प्राइस (Dabur ashokarishta price)

इस दवा की अलग-अलग पैकिंग की कीमत इस प्रकार हैं-
  • 225 ml Price - MRP ₹75
  • 450 ml Price - MRP ₹125
  • 680 ml Price - MRP ₹155

बैद्यनाथ अशोकारिष्ट (Baidyanath ashokarishta in Hindi)

यह दवा श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन प्रा. लिमिटेड बनाती हैं जिसकी स्थापना वर्ष 1918 पं रामदयाल जोशी ने और पं राम नारायण शर्मा ने की थी तथा यह कंपनी वर्तमान में लगभग 700 आयुर्वेदिक उत्पादों का निर्माण करती हैं जिसमें से एक बैद्यनाथ अशोकारिष्ट (Baidyanath Ashokarishta) हैं. बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप के फायदे (Dabur Ashokarishta syrup benefits in hindi) तथा नुकसान आदि के बारे में इस लेख में पहले ही बता चुके हैं. यह सिरप चाहे किसी भी ब्रांड की हो इसके घटक तत्व तथा इसे बनाने का फार्मूला हमेशा एक जैसा ही होता हैं और यह सभी एक जैसा ही असर करती हैं.

बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप के फायदे, बैद्यनाथ अशोकारिष्ट price, बैद्यनाथ अशोकारिष्ट प्राइस, अशोकारिष्ट फॉर वेट लॉस

बैद्यनाथ अशोकारिष्ट प्राइस (Baidyanath ashokarishta price)

यह दवा अलग-अलग पैकिंग में आती हैं जिसकी कीमत इस प्रकार हैं-
  • 225 ml price - MRP ₹66
  • 450 ml price - MRP ₹125
  • 680 ml price - MRP ₹132

पतंजलि अशोकारिष्ट (Patanjali ashokarishta in Hindi)

यह सिरप पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड बनाती हैं जिसकी स्थापना 2006 में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने की थी. यह भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली आयुर्वेद उत्पाद निर्माता कंपनी हैं जो हर तरह के आयुर्वेदिक उत्पाद का निर्माण करती हैं जिसमें से एक पतंजलि अशोकारिष्ट (Patanjali Ashokarishta) भी है. जैसा की आपने पोस्ट में जाना की इस फार्मूले की सभी दवाइयों के जो लाभ और नुकसान, साईड इफेक्ट होते है वो ही पतंजलि अशोकारिष्ट के फायदे (Patanjali ashokarishta ke fayde in hindi) तथा नुकसान होते हैं, यानी सभी कंपनियों की अशोकारिष्ट दवा एक जैसा ही व्यवहार करती हैं क्योंकि इनमें आयुर्वेद के ग्रंथानुसार सामान घटक तत्वों का प्रयोग होता हैं.

गर्भपात के लिए ashokarishta, पतंजलि अशोकारिष्ट के फायदे, अशोकारिष्ट सिरप फॉर पीरियड्स, अशोकारिष्ट पीने के फायदे

पतंजलि अशोकारिष्ट प्राइस (Patanjali ashokarishta price)

पतंजलि की इस दवा की कीमत इस प्रकार हैं-
  • 450 ml price - MRP ₹75
यह भी पढे-

अशोकारिष्ट से संबंधित प्रश्न उत्तर (FAQs related Ashokarishta in Hindi)

क्या स्तनपान कराने वाली महिलाएं अशोकारिष्ट ले सकती हैं?

यदि कोई स्तनपान कराने वाली महिलाएं मासिक धर्म और गर्भाशय संबंधी समस्याओं का सामना कर रही हैं तो वो अशोकारिष्ट सिरप ले सकती हैं.अगर वे भारी खून बहना, श्वेत प्रदर जैसी बीमारियों का अनुभव करें. इस दवा में कैल्शियम मात्रा अधिक होती हैं तथा इस दवाई का स्तनपान कराने वाली महिलाओं तथा बच्चों पर कोई नुकसानदायक प्रभाव नहीं पड़ता हैं.

एक्सपायर्ड डेटेड अशोकारिष्ट सिरप पीने से क्या होता है?

इस दवाई को एक्सपायर्ड डेटेड होने के बाद पीने से ज्यादा गंभीर दुष्प्रभाव या साइड इफेक्ट्स तो नही होते हैं परंतु इतने दिनो बाद इस दवा का असर भी समाप्त हो जाता हैं.

पीरियड में अशोकारिष्ट पीना चाहिए या नहीं? (Ashokarishta syrup for periods in Hindi)

पीरियड में अशोकारिष्ट का सेवन कर सकते हैं और यदि इस दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होती हैं तो इस दवा का उपयोग माहवारी में जरूर करना चाहिए.

अशोकारिष्ट सिरप का यूज किस उम्र में कर सकते है?

इस सिरप का उपयोग 5 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों को तो बिलकुल नहीं करवाएं तथा 5 वर्ष से ज्यादा उम्र के बच्चों हेतु उपयोग से पहले डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी होता हैं. किशोरावस्था से ऊपर की उम्र पर यदि आपको कोई अन्य गंभीर विकार नहीं हो तो आप अशोकारिष्ट सिरप का उपयोग बिना डॉक्टर की सलाह भी कर सकते हैं.

और नया पुराने