Trending

दवा या गोली से गर्भपात कैसे करें Abortion pill in Hindi

गर्भ को निष्कासित करने के लिए गर्भपात या अबोर्सन कि गोली या दवा (abortion pill or goli in Hindi) गर्भावस्था के पहले 12 सप्ताह तक ले सकते हैं. गर्भपात की गोली या दवाई (abortion pill) सीधे मेडिकल से ना लेकर के, डॉक्टर की देखरेख में तथा उनकी सलाह अनुसार ही लेनी चाहिए. गर्भवती महिला जिनका गर्भ डेढ़ महीने (7 सप्ताह) तक का हो, उनके लिए गर्भपात के लिए खाने की दवा या गोली के प्रयोग से सुरक्षित गर्भपात (safe abortion) संभव है.
गर्भपात की गोली दवाई टेबलेट, गोली दवा से गर्भपात कैसे करें, दवा गोली से गर्भपात के फायदे तरीके साइड इफेक्ट, गर्भपात कैसे होता है, medicall abortion pill in Hindi

गर्भपात कैसे करें?
How Abortion in Hindi

गर्भ धारण करना या गर्भवती होना जहां कई महिलाओं के लिए खुशी का समाचार होता है, वहीं कई महिलाओं के लिए यह चिंता का विषय बन जाता है. क्योंकि वह उस समय गर्भधारण के लिए तैयार नहीं रहती है, उनके लिए यह अनचाहा गर्भ हो जाता है. अनचाहे गर्भ के उस महिला के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय यही होता है कि गर्भपात के लिए कौन सा तरीका सही रहता है, इसके क्या साइड इफेक्ट होंगे. तो आज की पोस्ट में हम गर्भपात करने के तरीकों के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे तथा गर्भपात की गोली या दवा के बारे में विस्तार से बताएंगे.
प्रेगनेंसी रोकने के उपाय हिंदी में
गर्भपात करने के तरीके
Types of Abortion in hindi

सामान्यत अपने यहां पर गर्भपात करने के लिए जो तरीके अपनाए जाते हैं, इनमें प्रमुख है घरेलू उपाय या आयुर्वेदिक नुस्खे द्वारा गर्भपात यानी हर्बल अबॉर्शन, केमिकल अबॉर्शन, हार्मोनल अबॉर्शन, मेडिकल अबॉर्शन और सर्जिकल अबॉर्शनघरेलू तरीके से गर्भपात यानी हर्बल अबॉर्शन के बारे में हमने पिछली पोस्ट में बताया था, आप वहां से इसके बारे में जानकारी ले सकते हैं.
आज की पोस्ट में हम आमतौर पर अपनाए जाने वाले गर्भपात के प्रमुख तरीके मेडिकल अबॉर्शन के बारे में जानकारी देंगे.
गर्भपात के बाद स्वास्थ्य सुधारने हेतु सुझाव, गर्भपात के बाद भोजन पेट दर्द
खाने की गोली और दवा से गर्भपात कैसे किया जाता है या मेडिकल अबॉर्शन कैसे किया जाता है.
How can medical Abortion by pill in hindi.

जब आपके अनचाहे गर्भ की शुरुआत ही हुई हो यानी आपकी गर्भावस्था 7 से 12 सप्ताह तक की हुई हो तो आप मेडिकल अबॉर्शन यानी खाने की गोली से गर्भपात करवा सकती है. आप गर्भपात की गोली दवा सीधे मेडिकल से नहीं खरीद सकते हैं, यह टैबलेट डॉक्टर की पर्ची पर ही मिलती है. टेबलेट से गर्भपात यानी कि मेडिकल अबॉर्शन में मुख्य तौर पर दो प्रकार की अबॉर्शन टेबलेट यूज़ होती है, गर्भपात की गोली काम कैसे करती है, इसकी प्रक्रिया निम्न है-
  • सबसे पहले गर्भावस्था की जांच के बाद यह पता लगाया जाता है कि कोई गर्भवती महिला को कोई शारीरिक और संवेदनशील समस्या तो नहीं है. इसके बाद गर्भपात की पहली दवा दी जाती है जो टेबलेट के रूप में होती है, जिसे मिफी कहा जाता है. इस दवा का मुख्य काम भ्रूण को हटाना होता है, इसके लिए यह गर्भाशय में भ्रूण को हटाने की उचित परिस्थितियां तैयार करती है.
  • गर्भपात की पहली दवा या गोली देने के 2 दिन बाद यानी 36 से 48 घंटे बाद गर्भपात की दूसरी गोली दी जाती है जिसे मिसो कहा जाता है. इस गर्भपात की टेबलेट को अन्य दवाओं की तरह खाया भी जा सकता है या इसे गर्भवती महिला के वेजिना में भी रखा जा सकता है. इस दवा का मुख्य काम होता है कि गर्भाशय का मुंह खोलना तथा भ्रूण को बाहर निकलने में आवश्यक परिस्थितियों का निर्माण करना.
इस तरह गर्भपात की गोली से मेडिकल अबॉर्शन करवाने की प्रक्रिया पूरी हो जाती है. गर्भपात की दवा का उपयोग किसी प्रसूति रोग विशेषज्ञ या उन्हें डॉक्टर की सलाह अनुसार ही करना चाहिए.
गर्भपात के बाद दोबारा गर्भधारण, सम्बन्ध कब बनाए, गर्भपात के बाद ब्लीडिंग पीरियड गर्भाशय की सफाई
दवा या गोली से गर्भपात के फायदे
Advantage of abortion by pill in Hindi

गर्भपात करने के अन्य तरीकों से यह तरीका थोड़ा सरल होता है तथा विश्वसनीय होता है. इस तरीके से गर्भपात करने के मुख्य फायदे निम्नलिखित हैं-
  • दवा से गर्भपात का तरीका सुरक्षित होता है.
  • गोली से गर्भपात का तरीका विश्वसनीय और प्रभावी होता है.
  • मेडिकल अबॉर्शन करवाने से भविष्य में फिर से गर्भधारण करने में कोई परेशानी नहीं होती है.
  • अबॉर्शन पिल से गर्भपात करने से आप इस गर्भपात को गुप्त रख सकती हैं.
  • टेबलेट द्वारा गर्भपात करने से आपको अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ती हैं.
  • इस तरीके से गर्भपात करने से किसी भी तरह की सर्जिकल एक्टिविटी नहीं होने के कारण, चीर फाड़ होने का डर नहीं रहता है.
दवा, गोली से गर्भपात के साइड इफेक्ट
Side effect of abortion pill in Hindi

आपके मन में भी यह सवाल आया होगा कि क्या गर्भपात की गोली से साइड इफेक्ट भी होता है? तो इसका जवाब यह है कि हां गर्भपात की गोली से कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं जिनमें प्रमुख हैं-
  • थकान महसूस होना
  • जी मिचलाना या उल्टी जैसा महसूस होना
  • बुखार आना
  • डायरिया या दस्त की समस्या
  • कमजोरी महसूस होना व चक्कर आना
  • मासिक धर्म में अनियमितता
  • कभी-कभार दवा से अधूरा गर्भपात भी हो जाता है.
उपर्युक्त दवा या गोली से गर्भपात में होने वाले साइड इफेक्ट कुछ दिनों बाद अपने आप ही ठीक हो जाते हैं, अगर यह लक्षण लगातार बने रहते हैं तो आप डॉक्टर से संपर्क जरुर करें.

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Previous Post Next Post