Trending

क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं और प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए

कई बार देखा जाता है की ना चाहते हुए भी प्रेग्नेंट महिला को गर्भपात हो जाता है और वो महिला गर्भपात होने के कारण (Causes of miscarriage in hindi) भी नही समझ पाती है यानी वो इस बात से अनभिज्ञ होती हैं की मिसकैरेज किस कारण से हुआ है. तो जब इसका कारण जानोगे तो आप यह सब जानकर शोक्ड हो जाओगे की हम जो सामान्यत फल या भोजन लेते हैं, वो भी आपके गर्भपात का कारण बन सकता है. आज हम इसी बात पर चर्चा करेंगे की क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं (Kya khane se miscarriage hota hai) यानी प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए जिससे मिसकैरिज होता है. गर्भावस्था मे किन फलो और भोजन का सेवन करना चाहिए और प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए, इस बात की जानकारी हमेशा रखनी चाहिए.

प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए, प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए, गर्भपात होने के कारण
{tocify} $title={Table of Contents}

प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए । क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं

अगर आप मिसकैरिज से बचना चाहती हैं तो आपको यह पता होना जरूरी है की क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं (Kya khane se miscarriage hota hai) क्योंकि कुछ भोजन सामग्री में ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं, जो कि आपके ब्लड प्रेशर को बढ़ा देते हैं या किसी अन्य कारणों से आपके गर्भपात होने के कारण बनते हैं. अगर आप गर्भपात से बचना चाहते हैं, तो आपको यह जानकारी होना आवश्यक है की प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए यानी प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए.
  • पपीता का सेवन प्रेगनेंसी में अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए क्योंकि पपीता में "पपेन" नामक रसायन पाया जाता है जो कि गर्भपात होने का कारण बनता है. इसलिए गर्भावस्था में गर्भपात से बचने के लिए यह फ्रूट यानी पपीता कम से कम प्रथम तिमाही में नहीं खाना चाहिए क्योंकि कई महिलाओं के लिए पपीता ही पहली तिमाही में गर्भपात का कारण (Causes of miscarriage in hindi) बनता है.
  • अनानास का सेवन भी पहली तिमाही में गर्भपात का कारण बनता है क्योंकि इस फल में एक ब्रोमेलैन नामक एंजाइम पाया जाता है जो पपीते में पाए जाने वाले और प्रेगनेंसी के लिए खतरनाक "पपेन" रसायन की तरह ही हेाता है. यह रसायन गर्भपात करवाने में असरदार होता है. इसलिए अनानास, पपीता आदि फ्रूट प्रेगनेंसी के दौरान नहीं खाने चाहिए.
  • जब आप पूछते हैं की प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए तो एक बात का हमेशा ध्यान रखे की कच्चे दूध यानी की बिना उबाले गए दूध का सेवन भी प्रेगनेंसी के दौरान कभी नहीं करना चाहिए क्योंकि यह भी आपके गर्भपात होने के कारण में से एक बन सकता है.
  • क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं (Kya khane se miscarriage hota hai) तो जानिए की विटामिन सी का ज्यादा मात्रा में सेवन करना भी गर्भपात का कारण बन सकता है. इसलिए विटामिन सी की भरपूर मात्रा वाले फ्रूट और अन्य खाद्य पदार्थों को गर्भावस्था के दौरान ज्यादा नहीं खाना चाहिए. संतरा, नींबू आदि फ्रूट में ज्यादा मात्रा में विटामिन सी रहता है इसलिए संतरा, नींबू आदि का गर्भावस्था की शुरुआत में ज्यादा सेवन मिसकैरेज का कारण बन सकता है. इस बारे में विस्तार से जानने हेतु आप हमारी पोस्ट प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए पढ़ सकते हैं.
  • भुने हुए तिल को यदि कोई प्रेग्नेंट महिला शहद के साथ खा जाए तो इससे भी गर्भपात हो सकता है. इसलिए ध्यान रखें कि गर्भावस्था मे भुने हुए तिल को शहद के साथ नही खाना चाहिये. यह आपके लिए गर्भपात होने का कारण बन सकता है. कई महिलाएं इसका उपयोग गर्भपात करने के घरेलू तरीके व आयुर्वेदिक नुस्खे के रूप में करती है.
  • यदि आपको ग्रीन टी पीने का शौक है या आप कॉफी का सेवन करते हैं तो दोनों ही स्थिति में इनका सेवन प्रेगनेंसी के दौरान कम से कम करें. कॉपी और ग्रीन टी का ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल मिसकैरेज का कारण (Causes of miscarriage in hindi) बन सकता है.
  • यदि आप मछली का सेवन करते हैं तो गर्भावस्था के दौरान डिब्बाबंद पुरानी मछली नहीं खाना चाहिए. क्योंकि डिब्बाबंद मछली कई दिनों पुरानी होती है, जिससे इसके सेवन से प्रेगनेंट महिलाओं का ब्लड प्रेशर काफी बढ सकता है. प्रेगनेंसी के शुरुआत में हाई ब्लड प्रेशर से गर्भपात होने की संभावना ज्यादा रहती है. इसके अलावा यदि आप ताजा मछली खाती है तो भी ज्यादा मरकरी वाली मछली का सेवन नहीं करना चाहिए. क्योंकि ज्यादा मरकरी की उपस्थिति वाली मछली का सेवन करने से गर्भपात हो सकता है.
  • शराब और धूम्रपान की आदत भी मिसकैरेज का कारण बन सकती है इसलिए गर्भावस्था के दौरान गर्भपात से बचने हेतु इनका सेवन नहीं करना चाहिए. प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए यह तो आपने जान लिया लेकिन शराब और धूम्रपान की आदत भी गर्भावस्था के दौरान नुकसानदायक साबित हो सकती है.
  • अधपक्का कच्चा मांस या अंडे आपके शरीर में इंफेक्शन पैदा करते हैं जिससे गर्भपात होने की संभावनाएं बढ़ जाती है. इसलिए यदि आप मांसाहारी हैं तो कच्चा मांस या सड़े अंडे आदि गर्भावस्था के दौरान नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह गर्भपात होने के कारण (Causes of miscarriage in hindi) में प्रमुख होता है.

हमें स्वस्थ बच्चे के लिए गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए

गर्भावस्था में प्रेगनेंसी डाइट प्लानिंग करते समय आप भी यह सोचती होंगी कि गर्भावस्था में कौन सी चीजे खानी चाहिए, कौन सी चीजे नहीं खानी चाहिए. तो आज की पोस्ट में हमने आपको यह तो बता दिया की आपको प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए तथा प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए जिससे गर्भपात होने की संभावना रहती है. इससे बचने हेतु आप गर्भपात रोकने के घरेलू उपाय भी अपना सकते है.
अब बात करते हैं गर्भावस्था के भोजन में कौन सी चीजें आवश्यक है, गर्भावस्था के भोजन में कौन से मिनरल्स होना जरूरी है, तो इस बारे में हम ने पूर्व में कई पोस्ट लिखी है जहां से गर्भावस्था के भोजन से संबंधित संपूर्ण जानकारी आप प्राप्त कर सकते हैं जो निम्नलिखित है-

इसी के साथ आज की हमारी पोस्ट क्या खाने से मिसकैरिज होता हैं (Kya khane se miscarriage hota hai) यहीं पर पूर्ण होती है. आज हमने पूरी कोशिश की कि आपको इस गर्भपात होने के कारण (Causes of miscarriage in hindi) विषय से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्रदान करें तथा यह भी बताए की प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए, फिर भी यदि कोई सुझाव या शिकायत हो तो आप हमें बता सकते हैं। किसी अन्य सवाल या जिज्ञासा के बारे में आप पूछना चाहते हैं तो हमें जरूर बताएं, हम उसका उत्तर हिंदी भाषा में देने की पूर्ण चेष्टा करेंगे.

और नया पुराने