Trending

मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है । पीरियड्स आने की सही उम्र

आज की जेनरेशन में लगभग सबको पता होता हैं की पीरियड्स आने की सही उम्र क्या है तथा मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है और शुरू होता हैं लेकिन फिर भी हम आज की पोस्ट में हम मासिक धर्म की उम्र के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे. हमारे पाठकों के पिछले काफी दिनों से मासिक धर्म की उम्र के बारे में विभिन्न प्रकार के सवाल प्राप्त हो रहे हैं. जैसे कि मासिक धर्म की उम्र क्या है और मासिक धर्म किस उम्र में शुरू होता है तथा माहवारी किस उम्र में बंद होती है तथा इसके अलावा पीरियड्स कितने दिन चलता है के बारे में जानकारी भी कई पाठकों ने मांगी है. इसके अलावा उम्र के विभिन्न चरणों में माहवारी के बारे में जानकारी भी इस पोस्ट में उपलब्ध करवाएंगे, तो आज की पोस्ट शुरू करते हैं.

{tocify} $title={Table of Contents}

पीरियड्स आने की सही उम्र । मासिक धर्म की उम्र

किशोर अवस्था में एक सामान्य विचार हर किसी के मन में रहता है की मासिक धर्म की उम्र क्या है और मासिक धर्म की शुरुआत कब होती है क्योंकि उनके लिए यह एक परिवर्तनकाल होता हैं. इन बालिकाओं के मन में यह सवाल होना लाजमी भी है कि पीरियड्स आने की सही उम्र क्या है तो इसका उत्तर यह है की मासिक धर्म की उम्र सामान्यतः 12 वर्ष से 15 वर्ष तक मानी जाती है लेकिन पीरियड्स आने की सही उम्र की औसत आयु से एक से दो साल ऊपर नीचे हो जाना भी सामान्य माना जाता है. आजकल के बच्चे फास्ट फूड और मसालेदार भोजन का सेवन भी ज्यादा करते हैं जिसकी वजह से बालिकाओं में मासिक धर्म आना जल्दी शुरू हो जाता है.
कई बार अज्ञानता की वजह से माहवारी पहली बार आने पर बालिकाएं घबरा जाती है, इसलिए लड़कियों की माताओं और अध्यापिकाओं को इस बारे में अपने बालिकाओं को उचित समय पर विभिन्न जानकारी देते रहना चाहिए और बताते रहना चाहिए कि पीरियड्स आने की सही उम्र 12 से 15 वर्ष तक होती हैं, जिससे बालिकाएं पीरियड शुरू होने पर ज्यादा चिंता नहीं करें और इस हेतु पहले से ही तैयार रहे. इसके अलावा माहवारी शुरू होने के बाद बालिकाओं के शरीर में जो विभिन्न बदलाव आते हैं, उनके बारे में भी उचित जानकारी प्रदान करते रहना चाहिए. अगर मासिक धर्म की उम्र के बाद भी पीरियड्स आने में देरी होने लगे यानी की किशोरावस्था पूरी होने तक अगर माहवारी नहीं आए तो उचित समय पर डॉक्टर से परामर्श जरूर करना चाहिए.

पीरियड्स कितने दिन बाद आते है

सामान्य जानकारी के तहत पीरियड्स आने की सही उम्र के बारे में जानने के बाद अब हम पीरियड्स कितने दिन बाद आते है के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं. प्रत्येक महिला के लिए यह समय अलग अलग हो सकता है लेकिन सामान्यत पीरियड्स 28 से 35 दिन के बाद आते हैं तथा इसमें एक-दो दिन ऊपर नीचे हो सकता है. यदि किसी महिला को अनियमित पीरियड्स की समस्या हो तो हर बार पीरियड्स अलग-अलग दिन के बाद आते हैं और यदि नियमित मासिक धर्म चक्र हो तो हर बार समान समय अंतराल में माहवारी आती है.

पीरियड्स कितने दिन चलता है

यह जानने के बाद की पीरियड्स 28 से 35 दिन बाद आते है, अब जानते है की पीरियड्स कितने दिन चलता है. औसतन पीरियड्स 3 से 5 दिन चलता है तथा इसमें एक दो दिन कम या ज्यादा हो सकता हैं. यह भी प्रत्येक महिला के लिए अलग अलग हो सकता हैं तथा शुरुआती दिन में ज्यादा ब्लीडिंग होकर धीरे धीरे कम हो जाती हैं.

मासिक धर्म बंद होने के लक्षण, माहवारी किस उम्र में बंद होती है, गुड़ खाने से पीरियड आता है, 50 45 40 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन

मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है

पीरियड्स आने की सही उम्र के बारे में तो आपने ऊपर पढ़ लिया है, अब हम आपको मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है यानी माहवारी किस उम्र में बंद होती है के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे. मासिक धर्म 45 वर्ष के बाद की उम्र में बंद होता है क्योंकि भारत में सामान्यता माहवारी बंद होने की उम्र 45 से 50 वर्ष मानी जाती है. यानी की इस उम्र के बीच महिलाओं में मासिक धर्म आना बंद हो जाता है तथा इसको मेनोपॉज कहा जाता है और हिंदी में इसे रजोनीवृत्ति भी करते हैं. अब आप यह तो समझ गए होंगे की मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है यानी मासिक धर्म कितनी उम्र तक होता है. साथ ही यह भी ध्यान रखे की माहवारी बंद होने की उम्र प्रत्येक महिलाओं में अलग अलग हो सकती है तथा यह उनकी शारीरिक स्तिथि पर भी निर्भर करती हैं. किसी महिला के लिए 40 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन होता हैं तो किसी के 50 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन होना शुरू होता हैं.

पीरियड आना बंद क्यों होता है

यह तो आपने जान लिया की मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है लेकिन अब जानते है की पीरियड आना बंद क्यों होता है तो इसका कारण यह है कि जब किसी महिला के ओवरी में अंडे रिलीज होना बंद हो जाता है यानी ओवरी में अंडे पूरे खत्म हो जाते हैं तो पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं. अगर 45 साल से कम उम्र में ही पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं तो इसे प्रीमेच्योर मेनोपॉज कहा जाता है जिसे एक सामान्य स्थिति नहीं मानी जाती है. प्रीमेच्योर मेनोपॉज का कारण हार्मोनल बदलाव तथा अशुद्ध भोजन जैसे फास्ट फूड, मसालेदार खाना आदि को माना जाता है.

मासिक धर्म बंद होने के लक्षण

40, 50 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन होना शुरू होता है तो कुछ मासिक धर्म बंद होने के लक्षण भी प्रकट होना शुरू हो जाते हैं जिन्हे पहचानकर आप जान सकते हैं की अब आपका माहवारी चक्र बंद होने वाला है. पीरियड्स बंद होने के कुछ प्रमुख लक्षण निम्नलिखित हैं -
  • संबंध बनाने की इच्छा कम होना अथवा बिल्कुल बंद होना मासिक धर्म बंद होने के लक्षण में प्रमुख हैं.
  • 45 साल के बाद माहवारी की स्थिति में परिवर्तन आना शुरू हो जाता है तथा इस दौरान ब्लीडिंग कम आना शुरू हो जाए तथा अनियमित पीरियड आना शुरू हो जाए तो यह भी पीरियड्स बंद होने के लक्षण हो सकते हैं.
  • संबंध बनाते समय दर्द होना तथा असहजता महसूस होना माहवारी बंद होने का लक्षण हो सकता है.
  • पेशाब रोकने में परेशानी होना तथा बार-बार पेशाब आना भी मासिक धर्म बंद होने के लक्षण होते हैं.
  • इसके अलावा शरीर का तापमान ज्यादा होना, गर्मी ज्यादा लगना, पसीना अधिक होना और थकान महसूस होना भी मासिक धर्म बंद होने के लक्षण हो सकते हैं.

मासिक धर्म पीरियड्स आने की सही उम्र से संबंधित सवाल

मासिक धर्म से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न उतर की जानकारी भी हम इसी पोस्ट में देने वाले हैं जो कि निम्नानुसार है.

माहवारी कितनी उम्र तक आती है

माहवारी कितनी उम्र तक होती है है तो जैसा कि हमने लेख की शुरुआत में बताया है कि सामान्यत भारतीय महिलाओं में माहवारी 45 से 50 वर्ष की उम्र तक होती है. भारत में किसी महिला की औसत महावारी की उम्र 49 वर्ष मानी गई है. अब आपको इस प्रश्न का जवाब तो मिल गया होगा की माहवारी कितनी उम्र तक आती है. 40 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन तथा हार्मोनल परिवर्तन होना शुरू हो जाता है तथा 45 साल के बाद माहवारी की स्थिति बंद होना शुरू हो जाती है.

पीरियड्स आने का सही समय क्या है

पीरियड्स आने का सही समय औसतन 28 दिन का माना जाता है. पीरियड्स आने का सही समय प्रत्येक महिला के लिए अलग-अलग भी हो सकता है लेकिन अगर यह नियमित हो तो चिंता की कोई बात नहीं है. सामान्यतः 28 से 32 दिन के मासिक धर्म चक्र को नियमित मासिक धर्म चक्र कहते हैं और यह पीरियड्स आने का सही समय माना जाता है. लेकिन यदि किसी महिला को हर महीने अलग-अलग समय अंतराल में पीरियड्स आए तो उसे अनियमित मासिक धर्म कहा जाता है. इस तरह आपको आपके सवाल पीरियडस आने का सही समय क्या है का उत्तर मिल गया होगा.

गुड़ खाने से पीरियड आता है

एक पाठक का सवाल मिला की गुड़ खाने से पीरियड्स जल्दी आते हैं क्या तो आयुर्वेद के अनुसार गुड़ की तासीर गरम मानी जाती है इसलिए आप मन सकते है की गुड़ खाने से पीरियड आता है. गुड़ के साथ अन्य गर्म तासीर वाली चीजें जैसे जीरा, तिल और अजवाइन आदि का सेवन करने से भी पीरियड्स जल्दी आने की संभावना रहती है. इस प्रकार आपके सवाल गुड़ खाने से पीरियड आता है क्या का उत्तर यही है कि हां ज्यादा मात्रा में गुड़ खाने से पीरियड जल्दी शुरू होता है.

पहली माहवारी को क्या कहते हैं

पहली माहवारी के लिए कोई अलग नाम नहीं होता है, उसे ही साधारण मासिक धर्म ही माना जाता है लेकिन जब किसी बालिका को 10 से 15 वर्ष के बीच प्रथम बार मासिक धर्म आता है तो उसे घबराहट और चिंता होती है. लेकिन जब एक बार मासिक धर्म आना शुरू हो जाता है तो बालिकाएं अपने आप मैच्योर हो करके इसका सामना करना सीख जाती है.

इस तरह आज की पोस्ट से आपको मासिक धर्म की उम्र संबंधी सारी जानकारी मिल गई होगी जिसके तहत पीरियड्स आने की सही उम्र तथा मासिक धर्म किस उम्र में बंद होता है के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त हुई. इस पोस्ट में हमने मासिक धर्म किस उम्र में शुरू होता है (Starting your periods) और माहवारी किस उम्र में बंद होती है के बारे में भी सरल भाषा में समझाने की कोशिश की है. साथ ही आपने यह भी जाना की पीरियड्स कितने दिन बाद आते है कितने दिन चलता है. हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आज की पोस्ट आपको काफी पसंद आई होगी. आप अपनी सलाह और कोई अन्य सवाल हो तो हमें कमेंट बॉक्स में संपर्क जरूर करें. जैसे हमारे एक पाठक का सवाल था की गुड़ खाने से पीरियड आता है तो इसका जवाब भी इस लेख में दिया है. 40, 45, 50 के बाद मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन के बारे में तथा मासिक धर्म बंद होने के लक्षण के बारे में उचित जानकारी आपको कैसी है इस बारे में हमे जरूर बताकर अनुग्रहित करें.

और नया पुराने