Trending

कैसे करे जल्दी गर्भधारण। How to get pregnant fast in Hindi

पुरूष के शुक्राणु का स्त्री के डींब अथवा अंडे का मिलन होना तथा आपस में निषेचन की प्रक्रिया को ही गर्भाधान या गर्भधारण कहते है.
कुछ महिलाओं के लिए जल्दी गर्भधारण करना (get pregnant fast) मुश्किल नहीं होता. लेकिन कुछ ऐसी भी महिलाएं होती हैं जिन्हे कुछ दिक्कतों का सामना करना पढता है और गर्भधारण करना (pregnant hona) उनके लिए बेहद मुश्किल और निराशाजनक हो जाता है. यदि महिला चाहकर भी गर्भधारण नहीं कर पा रही है, तो इसके पीछे पति या पत्नी या फिर दोनों में ही दोष संभव है इसलिए सिर्फ महिला को गर्भधारण नहीं होने का ज़िम्मेदार नहीं मानना चाहिए.
आज की पोस्ट में हम इस बारे में चर्चा करेंगे की जल्दी गर्भधारण करने हेतु किया प्रयास किया जाए.
Hindi me garbhwati kaise kare, How to get pregnant women fast in hindi, quick, garbhdhan

जल्दी गर्भधारण के लिए योजना
(Planing for Get Pregnant Fast)-
1- गर्भ निरोधक का प्रयोग बंद करें-
यदि आप गर्भवती होना चाहती हैं तो आपको गर्भ निरोधक का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए क्योंकि महिला का शरीर गर्भनिरोधक बंद करने के काफी समय बाद, माँ बनने के लायक होता है. यह समय हर महिला के लिए अलग-अलग होता है. गर्भनिरोधको कि वजह से आपके शरीर को गर्भधारण हेतु फिर से समायोजित होने में काफी लम्बा समय लग सकता है.
गर्भ ठहरने का सही समय कब होता है
2- दिनचर्या में बदलाव-
1- गर्भधारण करने के लिए आवश्यक है कि आप एक स्वस्थ वजन को बनाए रखे, आप हमेशा पौष्टिक खाद्य पदार्थो का सेवन करे और नियमित रूप से व्यायाम करे.
2- धूम्रपान, शराब आदि बुरी आदतों को छोड़ने के लिए कठिन प्रयास करें.
3- चाय कॉफी आदि का सेवन सिमित मात्रा में करे.
4- यदि आप जल्दी गर्भधारण करने की कोशिश कर रहे है (try for get pregnant fast) तो गर्भवती होने की प्लानिंग से कम से कम एक महीने पहले फोलिक एसिड का सेवन करना शुरू कर दें.

3- ओवुलेशन का पता करना
यदि आप अपने अंडाशय अथवा डिमबग्रंथियों से अंडा निकलने के समय का पता कर ले तो यह जल्दी गर्भवती होने के लिए सबसे बड़ा रहस्य है ( Big secret of get pregnant fast). आप इस समय में संबध स्थापित करे.  इस समय शुक्राणु सीधा अंडे तक पहुंच जायेंगे और अंडा जल्दी निषेचित हो जायेगा.
सामान्यतः मासिक धर्म के पहले दिन से ठीक 14वें दिन अंडा अंडाशय अथवा ओवरी से निकलता है. इसे ओवुलेशन कहा जाता है.

4- सही समय पर संबध-
अधिकतर लोग इस बात से अंजान होते हैं कि गर्भधारण के लिए सही समय पर संबध करना भी मायने रखता है कियाेंकी शुक्राणु तो लगभग हमेशा एक तरह का ही व्यवहार करते हैं तथा किसी भी समय संबंध बनाने पर गर्भधारण करवा सकते हैं परन्तु महिला का गर्भाशय का व्यवहार मासिक धर्म चक्र के अनुसार परिवर्तित रहता है. उसका गर्भधारण की अनुकूलता के लिए एक निश्चित समय होता है. यदि उस समय शारीरिक संबध करते हैं तो गर्भधारण की संभावना आश्चर्यजनक रूप से बढ़ जाती है.
सामान्यतः 28 दिन के मासिकधर्म में 14वां दिन ओवुलेशन का होता है जो कि मसिकधर्म के शुरू होने के पहले दिन से गिना जाता है. मासीकधर्म पूर्ण होने के सात-आठ दिन बितने के बाद ओवुलेशन समय की शुरुआत होती है तथा यह ओवुलेशन समय अगले मासिकधर्म के शुरुआत से सात-आठ दिन पहले तक रहता है इसलिए गर्भधारण करने के लिए यह जरूरी है कि ओवुलेशन पीरियड में ही संबध स्थापित करें.

5- चरमसंतुष्टि-
अगर स्त्री संबध स्थापित करने के वक्त चरमसंतुष्टि प्राप्त कर लेती है तो गर्भधारण की संभावना काफी बढ़ जाती है. क्योंकि इससे स्त्री के गर्भाशय का मुँह खुल जाता है तथा उस समय पुरुष के शुक्राणु को उचित समय और माहौल मिलता है तथा शुक्राणु ज्यादा समय तक जीवित रह पाते हैं.

6- सुबह के समय संबध-
जल्दी गर्भधारण के लिए (for get pregnant fast) सुबह के समय संबध स्थापित करना चाहिए, क्योकि रात्रि की तुलना में सुबह पुरुष के वीर्य में शुक्राणु की संख्या अधिक मात्रा में होती है. इस समय वीर्य में शुक्राणु की संख्या सामान्य समय से करीब 35 प्रतिशत तक ज्यादा होती है.

7- संबध के बाद थोड़ी देर लेटी रहें-
गर्भधारण करने के लिए फीमेल को चाहिये की वो संबध स्थापित होने के बाद थोड़ी देर के लिए अपनी पीठ के बल लेटी रहें तथा करवट बदलकर ना सोए और ना ही संबंध बनाते ही खड़ी होवे क्योंकि इससे शुक्राणुओं को गुरुत्वाकर्षण बल के खिलाफ जाकर कार्य नहीं करना पड़ता है, जिससे वो अपना कार्य बिना रुकावट के आसानी से कर सकता है. इसलिए संबध स्थापित करने के तुरंत बाद में खड़े होने या करवट लेने के बजाय पीठ के बल लेटे रहे और कुछ समय के लिए इसी स्थिति में आराम करें. कई अध्ययन से यह साबित होता है की, संबध स्थापित होने के 30 मिनट तक पीठ के बल सीधे लेटे रहने से आपके गर्भधारण करने के अवसर 60% तक बढ़ जाते हैं.

8- पीरियडस के दौरान संबध ना करें-
हालांकि पीरियड्स या मासिक धर्म के समय सामान्यतः स्त्री पुरुष संबंध स्थापित नहीं करते हैं, फिर भी डॉक्टरो के मुताबिक जब आप गर्भधारण करने का सोच रहे है (think about get pregnant) तो इस बात की सावधानी बरतें कि कभी भी पीरियडस के दौरान संबध ना करें. यह आपके गर्भधारण में परेशानी उपस्थित करेगा.

9- अच्छी तरह से शुक्राणु-प्रवेश-
स्त्री पुरुष संबंध स्थापित करते समय इस बात का ध्यान रखें कि लिंग गर्भाशय के पास तक अच्छी तरह से जा सके. जिससे शुक्राणु इधर-उधर नही जायेंगे तथा उन्हें गर्भाशय में प्रवेश करने में परेशानी नहीं होगी.

10- तनाव मुक्त रहें-
संबंध स्थापित करने से पहले ऐसा कुछ नही करना चाहिए कि जिससे महिला का शरीर तनाव या टेंसन में आ जाये. क्योकि इससे उसके शरीर से एक प्रकार का एन्जाइम और हॉर्मोन का उत्पादन होता है जो गर्भधारण करने की संभावना को 15% तक घटा देता है. इसलिए संबंध स्थापित करते समय खुशनुमा माहौल बना कर रखे.

11- संबध पोज़िशन-
गर्भधारण करने में सबंध बनाने की स्थिति या पोजिशन का भी रोल होता है. इसलिए हमेशा मिशनरी पोज़िशन में संबध स्थापित करे. इस पोज़िशन में सम्बन्ध बनाने हेतु महिला नीचे लेटी रहती है तथा पुरूष उसके ऊपर में होता है. सामान्यत स्त्री पुरुष इसी अवस्था में संबंध स्थापित करते हैं. इस पोजिशन का फायदा यह है की शुक्राणु को गर्भाशय से होते हुए डिंब या अंडे तक पहुँचने में सहूलियत रहती है.

गर्भावस्था से संबधित कुछ अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट निम्न है-
Garbhavastha me khanpan bhojan aahar
Pregnancy week by week in hindi | प्रेगनेशि सप्ताह
गर्भाधान या गर्भधारण कैसे होता है। How to get pregnant in hindi
गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण Symptoms of Preganacy in Hindi
आज की पोस्ट निम्न सवालों के जवाब हेतु लिखी गई हैं, जो हमे कमेंट और अन्य माध्यम से मिले है. पहले हम प्रश्नों को पोस्ट के ऊपर लिखते थे लेकिन आज से हम सारी पोस्ट में पाठको से मिलने वाले सवालों को पोस्ट के नीचे लिखेंगे.
1- How I get pregnant fast in Hindi language.
2- Provide tips how to pregnant women in Hindi.
3- Provide fast pregnancy tips in Hindi language.
4- जल्दी गर्भधारण कैसे करें.
5- जल्दी गर्भवती होने हेतु किया करे.

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Previous Post Next Post